जो लोग डेयरी बटर और पीनट बटर नहीं खा सकते, उनके लिए भी इस फूल के बीजों से मक्खन बनाया जाता है।


सूरजमुखी का जन्म स्थान अमेरिका है। एक समय इस फूल की खेती कुकिंग ऑयल निकालने के लिए की जाती थी। कई जगहों पर इस फूल के बीजों को भूनकर या इसे कच्चा खाने की प्रथा है। इसका उपयोग विभिन्न अनाज और मिठाई बनाने में भी किया जाता है। जो लोग डेयरी बटर और पीनट बटर नहीं खा सकते, उनके लिए भी इस फूल के बीजों से मक्खन बनाया जाता है।

आइए देखें कि इस फूल के बीज में और क्या गुण हैं!

1) आवश्यक पोषण मूल्य

सूरजमुखी के बीज विभिन्न विटामिनों से भरपूर होते हैं। इसमें विशेष रूप से बी कॉम्प्लेक्स समूह और विटामिन सी और ई शामिल हैं। इसमें लोहा, मैग्नीशियम, फास्फोरस, जस्ता, मैंगनीज आदि भी होते हैं। यह बीज हड्डी से ऊतक संरक्षण तक सब कुछ कर सकता है।

2) दिल के लिए अच्छा है

यह बीज उन लोगों के लिए बहुत अच्छा है, जिनके शरीर में कोलेस्ट्रॉल का स्तर अधिक होता है, यानी जिनके शरीर में कम घनत्व वाले लिपोप्रोटीन होते हैं। कम घनत्व वाले लिपोप्रोटीन या एलडीएल धमनियों में बनता है, जिससे दिल का दौरा पड़ता है। सूरजमुखी के बीजों में लिनोलिक एसिड होता है जो कोलेस्ट्रॉल के विकास को नियंत्रित करता है और एलडीएल के स्तर को कम करता है। इसमें ओलिक एसिड भी होता है जो ट्राइग्लिसराइड्स को कम करता है और दिल के दौरे के खतरे को कम करता है।

३) मधुमेह को नियंत्रित करता है

जो लोग मधुमेह से पीड़ित हैं, वे पर्याप्त इंसुलिन का स्राव नहीं करते हैं। जब रक्त शर्करा का स्तर बढ़ता है, तो शरीर के विभिन्न अंग प्रभावित होते हैं। सूरजमुखी के बीज में बहुत कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स होता है और इसमें क्लोरोजेनिक एसिड होता है जो रक्त शर्करा को कम करता है।

4) हाथ और पैरों की सूजन को कम करता है

कई बार संक्रमण या घाव के कारण शरीर सूज सकता है। लेकिन यह अस्थायी और इलाज योग्य है। यदि हाथ और पैर लंबे समय तक सूजे रहते हैं, तो यह किडनी, फेफड़े आदि को प्रभावित करता है। यह समस्या डीएनए को भी नुकसान पहुंचाती है और कैंसर कोशिकाओं के निर्माण का कारण बन सकती है। सूरजमुखी के बीजों में फ्लेवोनोइड्स जैसे विटामिन ई और फेनोलिक यौगिक होते हैं। इन दोनों सामग्रियों में एंटी-ऑक्सीडेंट होते हैं जो हाथों और पैरों की सूजन को कम करते हैं।

5) घाव भर देता है

कुछ नर भेड़ों का परीक्षण किया गया और पाया गया कि सूरजमुखी के बीज उनके घावों को ठीक कर रहे हैं। इन बीजों में मौजूद लिनोलिक एसिड घावों को तेजी से ठीक करने में मदद करता है।

0 टिप्पणियाँ