Smartphone svaasthy ke lie haanikaarak kaise hai?

स्मार्टफोन स्वास्थ्य के लिए हानिकारक कैसे है?


स्मार्टफोन का इस्तेमाल आजकल इतना आम हो गया है कि हम फोन का इस्तेमाल करते समय इस पर भी विचार नहीं करते हैं कि शायद इस तरह से स्मार्टफोन का इस्तेमाल करना हमारे लिए हानिकारक हो सकता है।

हर तकनीक के अपने फायदे के साथ-साथ उसके नुकसान भी होते हैं लेकिन इस तकनीक के इस्तेमाल से हम खुद कई गलतियां करते हैं जो हमें नुकसान पहुंचाती हैं।


स्मार्टफोन उपयोगकर्ताओं को आम गलतियों से अवगत कराने की आवश्यकता है जो वे अक्सर करते हैं और यह उनके स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकता है लेकिन वे इस पर ध्यान नहीं देते हैं।

*बिस्तर पर जाने से पहले और लंबे समय तक स्मार्टफोन का उपयोग करने से झूठ बोलना

जब हम अपने बारे में कोई चित्र बनाने की बात करते हैं, तो हममें से अधिकांश का यह रवैया होता है।

अंधेरे में स्मार्टफोन का उपयोग करते हुए, इसकी स्क्रीन से निकलने वाली नीली रोशनी हार्मोन मेलाटोनिन के विकास को रोकती है, जो हमारे शरीर के अंदर होता है। हमारे शरीर में नींद और जागने के चक्र के लिए मेलाटोनिन जिम्मेदार होता है, यही कारण है कि जब यदि यह हार्मोन उत्पन्न नहीं होता है तो मानव नींद प्रभावित होगी।

इसके अलावा, यह नीली रोशनी आंखों की रोशनी को कमजोर करती है और सिरदर्द का कारण भी बनती है।

*अपने स्मार्टफोन की सराहना के साथ सो जाओ

अपने स्मार्टफोन की सराहना के साथ सो जाओ

जब हम अपने बारे में कोई चित्र बनाने की बात करते हैं, तो हममें से अधिकांश का यह रवैया होता है।

अंधेरे में स्मार्टफोन का उपयोग करते हुए, इसकी स्क्रीन से निकलने वाली नीली रोशनी हार्मोन मेलाटोनिन के विकास को रोकती है, जो हमारे शरीर के अंदर होता है। हमारे शरीर में नींद और जागने के चक्र के लिए मेलाटोनिन जिम्मेदार होता है, यही कारण है कि जब यदि यह हार्मोन उत्पन्न नहीं होता है तो मानव नींद प्रभावित होगी।

इसके अलावा, यह नीली रोशनी आंखों की रोशनी को कमजोर करती है और सिरदर्द का कारण भी बनती है।

*अपने स्मार्टफोन की सराहना के साथ सो जाओ

अपने स्मार्टफोन की सराहना के साथ सो जाओ

हममें से कई लोग अपने तकिए के नीचे या अपने स्मार्टफोन के साथ सोने के आदी हैं और यह हमारी सबसे बड़ी गलती है।

स्मार्टफोन एक विद्युत चुम्बकीय ट्रांसमीटर और रिसीवर है, जिसका अर्थ है कि यह रेडियो तरंगों का उत्सर्जन करता है, हालांकि यह अभी तक स्पष्ट नहीं है, लेकिन शोध से पता चला है कि तरंगें मानव मस्तिष्क को प्रभावित करती हैं। ।

अपने सेल फोन को पूरी तरह से बंद करना या सोते समय बिस्तर पर जाना महत्वपूर्ण है।


*स्क्रीन को देखने के लिए नीचे झुकना

स्क्रीन को देखने के लिए नीचे झुकना

अब यह सामान्य ज्ञान है कि स्मार्टफोन के अधिक उपयोग से अंगूठे से संबंधित समस्याएं हो सकती हैं, जैसे टेनोसिनोवाइटिस।

इसके अलावा, स्मार्टफोन का उपयोग करने से एक और स्वास्थ्य समस्या हो सकती है, जिसे 'टेक्स्ट नेक' कहा जाता है, क्योंकि हम समय के साथ अपने शरीर की ग्रीवा रीढ़ पर दबाव डालते हैं। साथ ही बढ़ रहा है।

गर्दन के दर्द के साथ-साथ यह हमारे शरीर की मुद्रा को भी प्रभावित करता है। स्मार्टफोन के उपयोगकर्ताओं को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि स्क्रीन को देखते समय गर्दन बिल्कुल सीधी हो।

0 टिप्पणियाँ