पेशेवर जीवन के लिए इंटर्नशिप का महत्व

पेशेवर जीवन के लिए इंटर्नशिप का महत्व

इंटर्नशिप एक पेशेवर सीखने का अनुभव है जो किसी छात्र को रुचि या कैरियर के किसी भी क्षेत्र में सार्थक व्यावहारिक कार्य सिखाता है। यह किसी संस्थान द्वारा सीमित अवधि के लिए छात्रों को प्रदान किए गए कार्य का व्यावहारिक अनुभव है। अध्ययन करते समय, इंटर्नशिप का उपयोग विभिन्न व्यवसायों, गैर-लाभकारी संगठनों और सरकारी एजेंसियों में नियुक्तियों के लिए किया जाता है।

संगठनों के लिए इंटर्नशिप कार्यक्रम का लाभ यह है कि वे जरूरत पड़ने पर सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाले इंटर्न को काम पर रख सकते हैं। इस तरह, वे इंटर्न के कौशल से अवगत हैं और कार्यालय के वातावरण में एक नए कर्मचारी को अनुकूलित करने के लिए परेशान करने की आवश्यकता नहीं है। संस्थान आमतौर पर खुद को या किसी अन्य संस्था के माध्यम से इंटर्न की भर्ती करते हैं।

प्रतिभा के साथ अनुभव और कौशल आता है। जॉब मार्केट को समझने में 3 महीने से लेकर एक साल तक का समय लगता है। इसीलिए किसी भी संगठन में नौकरी के लिए आवेदन करते समय साक्षात्कार में "पेशेवर अनुभव" का प्रश्न पूछा जाना चाहिए ताकि साक्षात्कारकर्ता पेशेवर मामलों से परिचित हो। । पाकिस्तान में कई शैक्षिक क्षेत्र हैं जिनमें इंटर्नशिप अनिवार्य है, जैसे चिकित्सा, वकालत, चार्टर्ड अकाउंटेंसी, आदि। आज का विषय इंटर्नशिप के महत्व पर प्रकाश डालता है।

1.सिद्धांत और व्यवहार के बीच का अंतर

इस कड़वी सच्चाई से कोई इनकार नहीं करता है कि हमारे शिक्षण संस्थानों में सिखाए गए सिद्धांत और काम पर किए गए काम के बीच एक बड़ा अंतर है। हालांकि, यदि आप नौकरी पाने से पहले इंटर्नशिप करते हैं, तो यह अंतर को कम करने या समझने में मदद कर सकता है। इंटर्नशिप के दौरान, आपको कई युक्तियाँ और चालें मिलेंगी जो पाठ्यपुस्तकों में नहीं सिखाई जाती हैं या शिक्षकों द्वारा सिखाई जाती हैं।


2.कौशल का प्रदर्शन

इंटर्नशिप स्नातक होने के दौरान अर्जित ज्ञान, कौशल और क्षमताओं का अभ्यास करने का सबसे अच्छा अवसर प्रदान करता है। शिक्षा का महत्व अपनी जगह है, लेकिन व्यवहार में इसका उपयोग करना भी महत्वपूर्ण है। इंटर्नशिप छात्रों को करियर शुरू करने में मदद करते हैं, विभिन्न संगठनों में काम करने के तरीके को समझते हैं और अपने नेतृत्व कौशल को सुधारते हैं।


3.आत्मविश्वास बढ़ाना

इंटर्नशिप न केवल छात्रों के प्रदर्शन को बढ़ाती है, बल्कि उन्हें उनकी पहचान और लक्ष्यों को बेहतर ढंग से समझने का अवसर भी देती है। आप क्या हासिल करना चाहते हैं, इंटर्नशिप इन उद्देश्यों के लिए थीम चुनता है। इसके अलावा, उनका आत्मविश्वास बढ़ता है कि अगर वे कोशिश करके अपनी इच्छित कंपनी में इंटर्नशिप प्राप्त कर सकते हैं, तो वे भी प्रयास करके नौकरी प्राप्त कर सकेंगे।


4.वरिष्ठों के साथ काम करने का अवसर

इंटर्नशिप के दौरान आपके पास किसी भी संगठन के अनुभवी और प्रतिभाशाली लोगों के साथ काम करने का अवसर होता है। आप उनके अनुभव और कार्यशैली को देखें और समझें। यदि छात्र लगातार सीखने और काम करने पर केंद्रित है, तो इस बात की प्रबल संभावना है कि वही कंपनी आपको स्थायी नौकरी प्रदान करेगी।


5.व्यावसायिक लिंक

पेशेवर करियर के दौरान व्यावसायिक संबंध बहुत महत्वपूर्ण हैं। एक इंटर्नशिप आपको व्यावसायिक पेशेवरों से मिलने, उनसे जुड़ने और अपना परिचय देने का अवसर देता है। उसके बाद यह आपको नौकरी पाने में बहुत मदद करता है।

0 टिप्पणियां