नया साल, नई आकांक्षाएं


नया साल और नई आकांक्षाएं
आकांक्षाएं हमारे दिलों में हैं

हम एक-दूसरे का समर्थन करेंगे

वे अंधेरी रातों में सितारे बन जाएंगे

हम आपको दिखाएंगे कि कैसे दलदल से बाहर निकलना है

जुल्म की घेराबंदी से बाहर निकलो

प्रेम के गीत निष्ठा के पात्र हैं

हम जीवन के गीत लिखेंगे

हमें अपनी मातृभूमि को चमकाना होगा

हमें इसे अच्छा दिखना होगा

हमें अब तह तक जाना है

जो लोग असहाय हैं, उन्हें जागना होगा

नए साल के बच्चे यह संदेश लेकर आए

हम धूप में छाया भी वितरित करते हैं

1 टिप्पणियाँ