Sardiyon mein bachchon ke svaasthy kee raksha kaise karen?-सर्दियों में बच्चों के स्वास्थ्य की रक्षा कैसे करें?


सर्दियों में नवजात शिशुओं को अधिक सुरक्षा और देखभाल की आवश्यकता होती है, नवजात शिशु जुकाम को जल्दी पकड़ लेते हैं, बच्चों को मौसम के प्रभाव से बचाना मुश्किल होता है, लेकिन यह असंभव नहीं है, बच्चों के स्वास्थ्य से संबंधित कुछ परेशानियों से बचा जा सकता है।


बाल रोग विशेषज्ञों के अनुसार, बच्चों में शीतकालीन स्वास्थ्य समस्याओं को रोकने के लिए एहतियाती उपाय किए जा सकते हैं।


शिशु का स्वास्थ्य सीधे माँ से जुड़ा होता है। यदि माँ बच्चे की देखभाल करते समय कुछ टिप्स का पालन करती है, तो ये फायदेमंद हो सकती हैं।


*बच्चों की देखभाल कैसे करें?

बाल रोग विशेषज्ञों के अनुसार, सबसे पहले, अपने बच्चे को दैनिक रूप से साफ रखें, किसी भी मानक बच्चे के तेल से बच्चे के शरीर की अच्छी तरह से मालिश करने से पहले, सर्दियों में बच्चे को गुनगुने पानी से स्नान कराएं।


*नहाने के बाद बच्चे को थोड़ी देर धूप में बैठने दें।

अपने बच्चे को ठंड से बचाने के लिए, गर्म कपड़ों का लगातार उपयोग न करें, इससे पसीना आता है और ठंडे पसीने के कारण भी बच्चे को खांसी और ठंड लग सकती है।


सर्दियों में बच्चों को डिहाइड्रेशन से बचाएं, बच्चे को समय-समय पर गुनगुना पानी पिलाएं ताकि शरीर डिहाइड्रेट न हो।


*बच्चे को सर्दी से बचाने के लिए रोजाना थोड़ी मात्रा में शहद दें।

हर समय हीटर न रखें, इससे शिशु को नुकसान हो सकता है।

हमेशा रात में बच्चे का ड्राई डायपर पहनें, हर 6 से 8 घंटे में बच्चे का डायपर बदलें।

यदि मौसम के कारण आपके बच्चे की त्वचा लाल और टूटने लगती है, तो ऐसे उत्पादों का उपयोग करें जिनमें विटामिन ए और डी हों या विशेष रूप से बच्चों के लिए बने हों


अपने बच्चों को स्तनपान कराने वाली माताओं को बहुत सावधानी बरतने की आवश्यकता होती है, इसलिए उन्हें सर्दियों में ठंडे पानी, कोल्ड ड्रिंक और ठंडी चीजों से बचना चाहिए। 


*सदियों से बच्चों की त्वचा की रक्षा कैसे करें?

ठंड के मौसम में बच्चों की त्वचा को बचाने के लिए पहले से ज्यादा ध्यान देने की जरूरत है, ठंड के मौसम में त्वचा सूख जाती है जो खुजली वाली त्वचा का कारण बनती है और त्वचा की नमी को कम करती है।


कुछ एहतियाती उपायों को अपनाकर उपरोक्त समस्याओं को दूर किया जा सकता है।


*मॉइस्चराइजिंग

नहाने के तुरंत बाद बच्चे को बाहर न ले जाएँ। स्नान करने के बाद, बच्चे के शरीर पर सभी जगह मॉइस्चराइज़र लगाएँ ताकि बच्चे का शरीर निर्जलित न हो। सिर से पैर तक एक अच्छा लोशन या जैतून का तेल प्रयोग करें। ।


*सर्दियों में बच्चों के कपड़े

ठंड के मौसम में, बच्चे को गर्म कपड़े पहनने चाहिए, लेकिन उन्हें इतना गर्म नहीं होना चाहिए कि उन्हें पसीना आने लगे। नरम, गर्म कपड़े बच्चे की त्वचा के लिए उपयुक्त होते हैं, क्योंकि ठंड के मौसम में बच्चे की त्वचा नरम हो जाती है।


माताओं को स्वयं गर्म कपड़े पहनने चाहिए और सूखे फलों को अपने आहार का एक अभिन्न अंग बनाना चाहिए क्योंकि अगर माँ स्वस्थ रहेगी तो बच्चा भी स्वस्थ रहेगा।


सर्दियों में, यह विशेष ध्यान रखना जरूरी है कि बच्चे का बिस्तर लंबे समय तक गीला न रहे, अन्यथा वह बहुत बीमार हो सकता है।

0 टिप्पणियां