एक मां वह चित्र है, जो कभी मिटती नहीं है। जिसकी ममता को बयां करना उपयुक्त नहीं है।


                     किसी बच्चेे के जन्म दिवस के उत्सव में आए मेहमान में से। एक का मां। जिस का स्वर्गवास हो गया हो। उनके चेहरेे का मुस्कुराहट की चमक फीकी पड़ जाती है।
                       
                           जब वह उत्सव से लौटते हैं। तो वह थोड़ा वक्त के लिए एकांत में रहना पसंद करते हैं , वहां घटित बच्चे की मां की ममता को याद करता है- वह केक का काटना, मां को खिलाना, बच्चे की मुस्कुराहट को देखते हुए। अपनी मां की यादों में खो जाता है।  
                             वह अपना पुराना वक्त को याद करता है। मां का वह लोरी की गाना, जब मां बहन को दूध पिलाती थी, तो वह मेरेेे सिर के बाल को हाथ सेेेे मसाज करती थी।(ताकि हम सो जाऊं) जिस दिन बारिश होता था। तो मां कागज का नौका हम सभी भाई बहनों को बना कर देती थी।और हम सभी आंगन के छोटे गड्ढा में जमा पानी में नौका का तैराकी करवाते थे।
                       हमें याद है जब हम पहली बार अ आ लिखा  था । तो मां की खुशी का ठिकाना नहीं रहा था। जब मेरा गांव से बाहर स्कूल में रुपए केे कमी के कारण दाखिला नहीं हो पाया। तो मां ने अपनी मंगलसूत्र बेचकर रुपए दी थी। तब जाकर मैं गांव के बाहर स्कूल में दाखिला पाया था।
      जब हमने दसवीं कक्षा द्वितीय स्थान सेे उत्तीर्ण किया। तो मां ने खुशी सेेे आस- पड़ोस में मिठाई का वितरण की थी।

                           मैं जब दिल्ली पहुंचा तो मां ने फोन पर रूंधी में आवाज में बात की थी।हर रोज सुबह मां फोन से हमें अच्छे से पढ़ाई एवं अच्छे से रहनेेेे की सलाह देती थी।

                                  लेकिन कुछ ही महीने बाद पिताजी का फोन आया। कि तुम्हारी मां का देहांत हो गया है। तुम घर वापस आ जाओ।  

           मेरा तो होश ही उड़ गई। लेकिन दोस्तों ने हौसला देकर घर भेज दिया। घर वापस आकर पिताजी के गले लग कर बहुत रोया। लेकिन 15 वर्ष की बहन को दिलासा देने के लिए रोना बंद करके मां का दाह संस्कार किया।

                   हमें पता चला कि मां ने हमारा कॉलेज में दाखिला दिलाने के खातिर अपने दांत कैंसर का इलाज नहीं कराई।
                                    मां का अंतिम -संस्कार करने के बाद पूरा परिवार के साथ पुन: दिल्ली वापस आकर पढ़ाई शुरु कर दिया ।.......

"घर में रहें स्वस्थ रहें देश को स्वस्थ रखें

0 टिप्पणियां