नीम को आयुर्वेद में चमत्कारी पेड़ माना गया हैं। प्रकृति ने हमें प्राकृतिक चिकित्सक के रूप में नीम का पेड़ दिया हैं। नीम में एंटीबायोटिक तत्व भरपूर मात्रा में होता हैं और ये तत्व रोगों को दूर करने में कारगर होते हैं।


नीम को आयुर्वेद में चमत्कारी पेड़ माना गया हैं।प्रकृति ने हमें प्राकृतिक चिकित्सक के रूप में नीम का पेड़ दिया हैं। नीम में एंटीबायोटिक तत्व भरपूर मात्रा में होता हैं और ये तत्व रोगों को दूर करने में कारगर होते हैं। रोज नीम का सेवन करने से संक्रमण, घाव और फंगल इंफेक्शन से रक्षा भी होती है। इसलिए आप रोज नीम के पत्तों को खाया करें या इसका पानी पीय करें। तो आइये जानते है इससे होने वाले फायदों के बारे में -

फोड़े और दूसरे जख्मों पर लगाने के लिए: कई बार ऐसा होता है कि खून साफ न होने की वजह से समय-समय पर फोड़े हो जाते हैं। ऐसे में नीम की पत्ती को पीसकर प्रभावित जगह पर लगाने से फायदा होगा। साथ ही इसके पानी से चेहरा साफ करने पर मुंहासे नहीं होते हैं।

मधुमेह से दिलाएं निजात: मधुमेह एक खतरनाक बीमारी है और अनियमित दिनचर्या के कारण इसके मरीजों की संख्‍या लगातार बढ़ रही है। मधुमेह के रोगियों के लिए नीम रामबाण है। नीम का पानी पीने से ये रोग दूर हो जाता है और खून में मौजूद शक्कर का स्तर सही हो जाता है। मधुमेह के रोगी सुबह खाली पेट आधा गिलास नीम का पानी पीएं। ये पानी एक दिन छोड़ कर पीना चाहिए। दरअसल नीम में हाईपोग्लासेमिक गुण होते हैं, जो रक्त में शक्कर के कणों को कम करने में सहायक होते हैं।

खून साफ करता है नीम का रस: खून साफ ना होने पर त्वचा पर मुहांसे हो जाते हैं। अगर आपको भी खूब मुहांसे होते हैं तो आप समझ लें की आपका खून अशुद्ध है और खून को शुद्ध करने के लिए रोज नीम के पानी का सेवन किया करें। नीम का पानी पीने से खून एकदम से शुद्ध हो जाएगा। नीम का पानी तैयार करने के लिए नीम के पत्तों को एक गिलास पानी में उबाल लें। जब पानी का रंग हरा हो जाए तो इस पानी को छान लें और इस पानी को ठंडा कर लें। नीम का पानी रोज सुबह पीएं। आप चाहें तो इस पानी के साथ शहद भी खा सकते हैं। ये पानी पीने से खून शुद्ध होने के साथ-साथ हार्मोन का स्तर भी ठीक हो जाएगा।

दर्द निवारक: नीम दर्द निवारक भी होता है और नीम के तेल से मालिश करने से दर्द से निजात मिल जाती है। जोड़ों या मासपेशियों में दर्द होने पर आप नीम के तेल से मालिश करें। नीम के तेल से मालिश करने से दर्द गायब हो जाएगी। थोड़ा सा नीम का तेल दर्द वाली जगह पर लगा दें और 2 मिनट तक इस तेल से मालिश करें। उसके बाद एक कपड़ा बांध लें। आपको दर्द तुरंत आराम मिल जाएगा।

चेहरे पर निखार : नीम के पानी से रोजाना चेहरा धोने से चेहरे पर निखार आ जाती है। इसके अलावा नीम का फेसपैक भी चेहरे पर लगाना उत्तम माना जाता है। नीम का फेस पैक लगाने से चेहरे की त्वचा जवा बनीं रहती है। नीम का फेस पैक तैयार करने के लिए नीम के पत्तों को अच्छे से पीस लें और इनमें थोड़ा सा शहद मिला दें। फिर इस पैक को चेहरे पर लगा लें।

0 टिप्पणियां