जिस तरह मोटापा और बढ़ा हुआ वजन बड़ी समस्या है उसी तरह कई लोगों को कम वजन की समस्या का सामना करना पड़ता है। कम वजन होने की वजह से लोग तो उनका मजाक उड़ाते ही हैं, इसके अलावा वो कुपोषण के मरीज भी लगते हैं।आयुर्वेद में उस व्यक्ति को कम वजन या दुबला कहा जाता है जिस व्यक्ति के शरीर की नसें दिखाई देती है, शरीर में सिर्फ हड्डियाँ दिखती है और जिस व्यक्ति को काम करते वक्त जल्दी थकान लग जाती है व व्यक्ति के पेट और ग्रीवा शुष्क होते हैं।



एक तरफ जहां दुनिया के 70 प्रतिशत लोग वजन बढ़ने से परेशान हैं, तो वहीं 20 प्रतिशत अपने दुबलेपन से परेशान हैं। सिर्फ 10 प्रतिशत लोग ही हेल्दी लाइफ एन्जॉय कर रहे हैं। कमजोरी से फर्क सबसे पहले शरीर के बाहरी हिस्से पर दिखता है।



अंडे में फैट और कैलोरी काफी होती हैं और इसका रोजाना सेवन करेंगे तो वजन बढ़ेगा, लेकिन ध्यान रखें कि कच्चा अंडा भूलकर भी ना खाएं, इससे स्वास्थ्य संबंधी गंभीर समस्याएं हो सकती हैं।
खजूर को या छुहारे को दूध में उबालें. रात को सोने से पहले अच्छे से चबाकर खाएं और दूध पी लें. दो-तीन महीने तक लगातार खाने से फायदा होगा।
पानी हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभदायक है। इसलिए रोजाना 2 लीटर से अधिक पानी पिए। इससे शरीर में मौजूद जहरीले पदार्थ बाहर निकल जाते है और भोजन का पाचन भी अच्छी तरह से होता है। पानी हमारे शरीर में फुर्ती बनाये रखता है जिस कारण काम या एक्‍सरसाइज करते समय कमजोरी महसूस नहीं होती है।
वजन बढ़ाने का सबसे अच्छा तरीका है केला खाना। रोजाना केले का सेवन करेंगे तो वजन जरूर बढ़ेगा। केले में भरपूर मात्रा में कैलोरी होती हैं जो शरीर को ना सिर्फ एनर्जी देती हैं बल्कि वजन बढ़ाने में भी मदद करती है। केला आप दूध के साथ भी खा सकते हैं, इसके अलावा केले का शेक बनाकर भी आप ले सकते हैं।
अगर आप मांसाहारी है तो आप अंडा, मछली, मांस का सेवन कर सकते है। यह प्रोटीन और वसा के बहुत अच्छे स्रोत हैं इसके अलावा यह मांसपेशियों का निर्माण करता है और शरीर की कोशिकाओ की मरम्मत करता है परन्तु मांसाहार के अधिक सेवन कोलेस्ट्रोल को बढ़ा देता है जिससे आपको कई रोग हो सकते है।

0 टिप्पणियां